Emotional Story – Budape ki Majburi Hindi | बुढ़ापे की मजबूरी

नमस्कार दोस्तों आज के पोस्ट में हम Emotional Story – Budape ki Majburi Hindi | बुढ़ापे की मजबूरी कहानी लेकर आये हैं जो आपको जरुर पसंद आएगा तो आइये कहानी कि शुरुवात करते हैं और पढ़ते हैं Short hindi story on old age, Hindi story on old age with moral, Hindi story on old age for students, Hindi story on old age in english

Hindi story on old age with moral, Hindi story on old age in english, Budape ki Majburi

Emotional Story – Budape ki Majburi Hindi | बुढ़ापे की मजबूरी

पति के देहांत के बाद में अपने एकलौते बेटे के यहाँ रहती थी, मेरी बहूँ का एक अलग ही रूप मुझे देखने मिला, साथ ही बेटे का भी- दोनों के मन में क्या है में अच्छे से जानती हूं, वो चाहते है कीं मैं वृद्धा आश्रम चली जाऊ, उनके जानें के बाद मुझे यह सब देखना और सुनना पड़ेगा इसका मुझे अंदाजा भी नहीं था, पर में मन मान कर अपने बेटे और बहूँ कीं बाते सुनकर भी यहाँ रहती हूं क्यों कीं मुझे मेरे पोते और पोती दिखाई देते है, उनकी झलक पा कर मुझे सुकून मिलता है.

घर के बाहर एक टिन कीं झोपडी में रहती हूं, मेरी बहूँ को कोई दिक्कत नहीं हो इसलिये में घर के बाहर रहती हूं, बेटे नें थोड़ी मेहरबानी कीं है तो ऊपर टिन कीं चादर लगवा दी है, समय समय पर थोड़ा राशन दे देता है तो में अपना बनाकर खा लेती हूं, मैंने अपने बेटे को कह दिया है कीं मेरी वजह से उन दोनों को कोई प्रॉब्लम नहीं होंगी बस मुझे यही रहने दे.

इसी घर में मुझे मर जानें दे, मैं बस यही चाहती हूं. मैं अपने आप को खुश किस्मत समझती हूं कीं मेरे बेटे और बहू कम से कम मेरे लिये इतना तो कर रहें है, मेरा बेटा सुबह 9 बजे नौकरी जाता है, और बच्चे भी उसी समय स्कूल जाते है, फिर शाम को 6 बजे मेरा बेटा वापस आता है, बच्चे 3 बजे आते है, उन्हें आते जाते निकलते देख मुझे बड़ा सुकून मिलता है.

मेरे पति के दोस्त जब कई दिनों बाद आये| मेरे पति के दोस्त थे. उनकी पत्नी का भी स्वर्ग वास हो गया है, उस समय पर वो हमारे घर पर आया करते थे, उनसे हमारे अच्छे रिश्ते थे, उनका घर हमारे घर से थोड़ी दूरी पर था, पैरो में समस्या हो गई थी ठीक से चल भी नहीं पाते थे, वो बड़े दिनों बाद मेरे यहाँ आये. मुझे उन्हें देख कर अच्छा लगा. उनका हाल भी मेरी तरह ही था, बच्चे अब उनसे भी परेशान थे.

आकर मेरे पास अपना दुखड़ा रोते थे और उन दिनों को याद करते थे. बुढ़ापा हम जैसो को बहुत रुलाता है. उनकी पत्नी का स्वर्ग वास हो गया था, और उन्हें चलने उठने में समस्या थी, इसलिये वो तो अपना खाना भी नहीं बना पाते थे. मेरे पास आये तो में समझ गई कीं यह इतनी मुसीबत में चल कर पुराने दोस्तों के यहाँ चाय और खाने कीं चाह में ही जाते होंगे. उनकी भी अपनी मज़बूरी थी. वो आये तो मैंने उनके लिये खाना बनाया, और उन्हें खिलाया, मना कर रहें थे नहीं खाना लेकिन मुझे पता था कीं उनको भूख लगी है.

मेरी बहू नें मुझे और उन्हें खाना खाते देख लिया, वो कुछ भी ना बोली.ऐसे ही वो यहाँ 2 -3 बार आये. जब भी वो आते में उन्हें खाना खिलाती. फिर उनके जानें के बाद जब मेरा बेटा आया तो बहू कहती है कीं तुम्हारी माँ कितनी बेशर्म है, पता नहीं किस किस को आजकल बुला कर खाना खिला रही है. बड़ी मुश्किल से कमाया जाता है और यह लुटाने में लगी हैं इनका राशन बंद करो कुछ दिन भूखी रहेगी तो अक्ल ठिकाने आयेगी. मैंने कहां कीं में अपने हिस्से का उन्हें खिलाती हूं तुम्हारे पिता के पुराने मित्र है.

फिर भी बहू का उल्टा सीधा बोलना शुरू रहा. घर के बाहर रहकर इनको आजादी मिल गई है पता नहीं क्या क्या करती है बेटा भी बोला कीं कुछ दिन भूखा ही रहने दो इन्हे. मुझे मेरे बेटे नें घर के पीछे सीडी के पास लें जाकर बिठा दिया कहां कीं अब यही बैठो. मेरे तो अब आँसू भी सुख गये थे. अगले दिन मुझे खाना नहीं मिला. मेरे टिन के उस छोटे से कमरे को बहूँ नें तोड़ दिया.

1 दिन पूरा भूखा रहने के बाद मैंने सोचा कीं मैं गलत कर रही हूं. मुझे अब अपने बेटे के यहाँ नहीं रहना चाहिये, और शायद गलती भी मेरी ही है, मेरी ही परवरिश में कोई कमी रही है तभी तो यह परिणाम आया.अगली सुबह मैंने अपने बेटे को कहा कीं मुझे वृद्धा आश्रम छोड़ आ अब मैं तुम दोनों को ज्यादा परेशान नहीं करना चाहती. बहूँ नें कहा कीं एक दिन भूखी रही तो अक्ल ठिकाने आ गई ना. बेटे के चेहरे पर भी अजीब सी ख़ुशी थी जल्दी से तैयार हो गया. मुझे छोड़ने के लिये.

बहू कह रही थी कीं आज कीं छुट्टी लें लों यही आस पास मत छोड़ आना कहीं 3 दिन में वापस आ जाये. मैंने अपनी बहूँ से कहां कीं बेटी चिंता मत कर में अब नहीं आउंगी, मैंने अपने पोता पोती को गले लगाया, मुझे पता था कीं अब मिलना नहीं हो पायेगा, बेटे को भी चाहती थी कीं एक बार जी भर के गले लगा लू. लेकिन वो बोला चलो जल्दी करो. मैंने बहू को कहा कीं बेटी अपना ध्यान रखना.मेरा बेटा मुझे छोड़ आया.

वहाँ आकर मैंने देखा कीं मेरी तरह कई है. थोड़े दिन उदास रहते है फिर सच को स्वीकार कर लेते है. मैं अब यहाँ खुश हूं. कुछ काम भी करती हूं. में चाहती हूं कीं ऐसा कहूं कीं ऐसा किसी के साथ ना हो लेकिन ऐसा कब किसके साथ हो जाये कोई बता नहीं सकता.लेकिन माँ बाप को ऐसे समय के लिये भी तैयार रहना चाहिये. बस बच्चों को पाल कर बड़ा कर दो. उनसे कुछ उम्मीद मत रखो.

Hindi Story on Old Age in English – Budape ki Majburi

Budape ki Majburi: pati ke dehant ke baad mein apne eklaute bete ke yahan rahati thi, meri bahoon ka ek alag hi roop mujhe dekhne mila, saath hi bete ka bhi- donon ke mann mein kya hai mein achchhe se janti hoon, woh chahte hai kin main vriddha ashram chali jau, unke jaanen ke baad mujhe yah sab dekhna aur sunna padega iska mujhe andaja bhi nahi tha, par mein man maan kar apne bete aur bahun kin baate sunkar bhi yahan rehti hoon kyon kin mujhe mere pote aur poti dikhai dete hai, unki jhalak pa kar mujhe sukoon milta hai.

ghar ke bahar ek tin kin jhopadi mein rehti hoon, meri bahun ko koi dikkat nahi ho isliye main ghar ke bahar rehti hoon, bete nen thodi meharbani kin hai to upar tin kin chadar lagva di hai, samay samay par thoda rashan de deta hai to mein apna banakar kha leti hoon, maine apne bete ko keh diya hai kin meri vajah se un donon ko koi problem nahi hongi bas mujhe yahi rehne They.

isee ghar mein mujhe mar jaanen de, main bas yahee chaahatee hoon. main apane aap ko khush kismat samajhatee hoon keen mere bete aur bahoo kam se kam mere liye itana to kar rahen hai, mera beta subah 9 baje naukaree jaata hai, aur bachche bhee usee samay skool jaate hai, phir shaam ko 6 baje mera beta vaapas aata hai, bachche 3 baje aate hai, unhen aate jaate nikalate dekh mujhe bada sukoon milata hai

mere pati ke dost jab kai dinon baad aaye| mere pati ke dost the. unaki patni ka bhi swarg was ho gaya hai, us samay par woh hamare ghar par aaya karte the, unse hamare achchhe rishte the, unaka ghar hamare ghar se thodi doori par tha, pairo mein samasya ho gai thi theek se chal bhi nahi paate the, woh bade dinon baad mere yahan aaye. mujhe unhen dekh kar achchha laga. unka haal bhi meri tarah hi tha, bachche ab unse bhi pareshan the.

aakar mere pass apna dukhda rote the aur un dinon ko yaad karte the. budhapa hum jaiso ko bahut rulata hai. unaki patni ka swarg was ho gaya tha, aur unhen chalane uthane mein samasya thi, isliye woh toh apna khana bhi nahi bana pate the. mere pass aaye to main samajh gai kin yah itani musibat mein chal kar purane doston ke yahan chay aur khane kin chaah mein hi jate honge. unki bhi apni majboori thi. woh aaye toh maine unke liye khana banaya, aur unhen khilaya, mana kar rahen the nahi khana lekin mujhe pata tha kin unko bhukh lagi hai.

meri bahu nen mujhe aur unhen khaana khaate dekh liya, vo kuchh bhee na bolee.aise hee vo yahaan 2 -3 baar aaye. jab bhi vo aate mein unhen khaana khilaati. phir unake jaanen ke baad jab mera beta aaya to bahu kahati hai kee tumhaari maan kitani besharm hai, pata nahin kis kis ko aajakal bula kar khaana khila rahi hai. badi mushkil se kamaaya jaata hai aur yah lutaane mein lagi hain inaka raashan band karo kuchh din bhookhi rahegi to akl thikaane aayegi. mainne kahaan keen mein apane hisse ka unhen khilaati hoon tumhaare pita ke puraane mitr hai.

fir bhi bahu ka ulta sidha bolna shuru raha. ghar ke bahar rahakar inako azadi mil gai hai pata nahi kya kya karti hai beta bhi bola kin kuchh din bhukha hi rehne do inhe. mujhe mere bete nen ghar ke pichhe cd ke pass lein jakar bitha diya kahan kin ab yahi baitho. mere to ab aansu bhi sukh gaye the. agle din mujhe khana nahi mila. mere tin ke us chhote se kamre ko bahoon nen tod diya

1 din poora bhookha rahane ke baad mainne socha kee main galat kar rahi hoon. mujhe ab apane bete ke yahaan nahin rahana chaahiye, aur shaayad galati bhi meri hi hai, meri hi paravarish mein koi kami rahi hai tabhi to yah parinaam aaya.agali subah mainne apane bete ko kaha keen mujhe vrddha aashram chhod aa ab main tum donon ko jyaada pareshaan nahin karana chaahati. bahoon nen kaha keen ek din bhookhi rahi to akl thikaane aa gai na. bete ke chehare par bhi ajeeb see khushi thi jaldi se taiyaar ho gaya. mujhe chhodane ke liye

bahoo kah rahi thi keen aaj kee chhutti len lo yahi aas paas mat chhod aana kaheen 3 din mein vaapas aa jaaye. mainne apani bahu se kahaa kee beti chinta mat kar mein ab nahin aaungi, mainne apane pota poti ko gale lagaaya, mujhe pata tha keen ab milana nahin ho paayega, bete ko bhi chaahati thi kee ek baar jee bhar ke gale laga loo. lekin vo bola chalo jaldi karo. mainne bahu ko kaha kee beti apana dhyaan rakhana.mera beta mujhe chhod aaya

vahaan akar maine dekha kin meri tarah kai hai. thode din udaas rehte hai fir sach ko sweekar kar lete hai. main ab yahan khush hoon. kuchh kaam bhi karti hoon. mein chahti hoon kin aisa kahun kin aisa kisi ke sath na ho lekin aisa kab kiske saath ho jaaye koi bata nahi sakta.lekin maa baap ko aise samay ke liye bhi taiyar rahana chahiye. bas bachchon ko paal kar bada kar do. unase kuchh ummid mat rakho.

Tags: Short hindi story on old age, Hindi story on old age with moral, Hindi story on old age for students, Hindi story on old age in english, Emotional Story – Budape ki Majburi Hindi, बुढ़ापे की मजबूरी

Also Read👇

Best Heart Touching Love Story in Hindi

कहानी – तुम्हारी आखिरी निशानी

Leave a comment